ब्रेकिंग न्यूज
logo
add image
Blog single photo

राशन की दुकान में कालाबाजारी

घट्टिया तहसील के ग्राम सिंगावदा के ग्रामीणों की शिकायत पर नहीं हो रही कार्रवाई
पराग पांचाल, उज्जैन।
शासन द्वारा गरीब जनता को उचित मूल्य पर राशन उपलब्ध करवाने हेतु प्रत्येक पंचायत स्तर पर राशन की दुकान संचालित की जा रही है। इन राशन की दुकानों पर रहवासियों को गेहूं, चावल, केरोसिन, माचिस और अन्य सामग्री प्रदान की जाना होती है। लेकिन राशन माफियाओं द्वारा इन वस्तुओं की कालाबाजारी करते हुए गरीबों के हक पर डाका डाला जा रहा है। पढिय़े विशेष रिपोर्ट...।

ग्राम सिंगावदा के ग्रामीणों सुनील राठौर, शिव हाडा, कमल हाडा, धर्मेन्द्र हाडा, जीतू चौहान, चंदर सिंह चौहान, नरेन्द्रसिंह चौहान, विक्रम चौहान, बहादुर बोरदिया, मुकेश धारविया, राहुल डोडिया, पप्पू डोडिया, सुनील चौहान, अर्जुन हाडा, राहुल नाथ, कलाश डोडिया, शंकर चौहान, मुकेश चौहान, संजय हाडा,  ओमकार धन्नावद, मांगू लाल उप सरपंच, सत्यनारायण सिंह पूर्व सरपंच, बेनसिंह, राहुल परिहार आदि ने आरोप लगाते हुए बताया कि शासन की योजनाओं में उचित मूल्य पर मिलने वाले राशन को सारोला स्थित उप दुकान क्रमांक 3 के दुकान संचालक द्वारा मनमाने तरीके से वितरित किया जाता है। यही नहीं सारोला स्थित दुकान को नियमित नहीं खोलते हुए अपने हिसाब से खोलकर कुछ लोगों को राशन वितरित कर दुकान बंद कर दी जाती है। जब इस बात का विरोध किया जाता है तो दुकान संचालक द्वारा जल्द राशन देने की बात कहकर टाल दिया जाता है। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि दुकान संचालक द्वारा अनपढ़ ग्रामीणों के साथ धोखाधड़ी करते हुए उन्हें केवल 3 माह का राशन देकर पूरे वर्ष के राशन पर इंट्री कर दी जाती है। जब ग्रामीणों द्वारा एकत्रित होकर इस बात का विरोध किया गया तो राशन माफिया कहते हैं कि हमारी सभी जगह सेटिंग है। तुम लोग कहीं भी शिकायत कर लो हमारा कुछ नहीं बिगड़ सकता है। 

जनसुनवाई, सीएम हेल्पलाईन तक में शिकायत

ग्राम सिंगावदा के जागरूक नागरिकों द्वारा जब इस बात की शिकायत जनसुनवाई में कलेक्टर कार्यालय पर की गई तो वहां से जल्द कार्रवाई का आश्वासन दिया गया था। ग्रामीणों ने चर्चा में बताया कि यहां पर दिये आवेदन से कुछ दिनों बाद जिम्मेदार विभाग के कुछ लोग जांच करने भी आए लेकिन जांच में उन्होंने शिकायतकर्ता का पक्ष ठीक से सुना ही नहीं। यही नहीं गांव के निवासी सुनील राठौर और शिव हाडा ने सीएम हेल्प लाइन में भी शिकायत की। लेकिन वहां से भी अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

ग्रामीणों द्वारा लगाए जा रहे आरोप सही है। यहां गेहू नहीं देते शिकायत होने पर थोड़े बहुत लोगों को दिया जाता है बाद में वही स्थिति हो जाती है।
मांगू लाल, उप सरपंच

हमारे द्वारा गांव की राशन की दुकान में कालाबाजारी की शिकायत कलेक्टर महोदय को जन सुनवाई में की गई थी। वहां से जांच के लिए अधिकारी आये थे लेकिन उन्होंने जिम्मेदार पर उचित कार्रवाई नहीं की। अधिकारियों द्वारा जब गेंहू बटवाये गए तो केवल 3 माह का गेंहू ही दिया गया और 12 माह की इंट्री की गई।
-सुनील राठौर, निवासी सिंगावदा

मेरे द्वारा सीएम हेल्पलाइन में शिकायत की गई थी। इसके बाद वहां से दिनकर मेडम का फोन आया था। उन्होंने हमारी पात्रता पर्ची नहीं होने की बात कही। जब हमारी पात्रता पर्ची नहीं थी तो इतने वर्षों से राशन कैसे बट रहा था। सेल्समेन द्वारा भी लगातार हाथ-पैर जोड़कर शिकायत वापस लेने का कहा जा रहा है।
-शिव हाडा, निवासी सिंगावदा

मैं किस किस को जवाब देता रहूंगा। मैं राशन को बराबर वितरित कर रहा हंू। 
- बद्रीलाल राठौर, सेल्समेन

हां इस मामले में कई बार शिकायत मिल चुकी है। मेरी आज खाद्य विभाग में बात हुई है वे इस मामले की जांच कर रहे हैं। जल्द ही सेल्समेन पर भी कार्रवाई की जाएगी।
-गिरीश शर्मा, प्रभारी अधिकारी अंबोदिया सोसायटी

ताजा टिप्पणी

टिप्पणी करे

Top