ब्रेकिंग न्यूज
logo
add image
Blog single photo

आदर्श आचार संहित लागू

28 नवंबर को वोटिंग, 11 दिसंबर को परिणाम
उज्जैन आज तक, भोपाल। चुनाव आयोग ने पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव की तारीखों का शनिवार को ऐलान कर दिया। मध्य प्रदेश और मिजोरम में एक चरण में 28 नवंबर को, छत्तीसगढ में विधानसभा चुनाव दो चरणों में 12 और 20 नवंबर को, तथा राजस्थान और तेलंगाना में एक चरण में 7 दिसंबर को होंगे। सभी राज्यों में मतों की गिनती 11 दिसंबर को होगी। मुख्य चुनाव आयुक्त ओ. पी. रावत ने प्रेसवार्ता में यह घोषणा की। इसके साथ ही पांचों राज्यों में आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है। उन्होंने कहा कि इन सभी चुनावों में नई वी वी पैट मशीनों का इस्तेमाल किया जाएगा। चुनाव आयोग की तरफ से शनिवार को चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद इन राज्यों में आज से आचार संहिता लागू हो गई है। चुनाव आयोग ने कहा कि इस बार विधानसभा चुनावों में वीवीपैट का इस्तेमाल किया जाएगा। इसके साथ  ही, चुनाव में सभी बूथों पर पुख्ता सुरक्षा के इंतजाम किए जाएंगे।

एक ही चरण में चुनाव होगा

नोटिफिकेशन: 2 नवंबर
नामांकन की आखिरी तारीख: 9 नवंबर
नामांकन पत्रों की जांच:12 नवंबर
नामांकन वापस लेने की आखिरी तारीख: 14 नवंबर
मतदान: 28 नवंबर

दो प्रदेशों में एक साथ होंगे चुनाव
मध्य प्रदेश की 203 विधानसभा सीट तथा मिजोरम की 40 विधानसभा सीट पर एक साथ विधानसभा वोटिंग कराई जाएगी। दोनों ही राज्यों में 28 नवंबर को वोटिंग होगी। वहीं राजस्थान की 200 सीट के साथ तेलंगाना में भी 7 दिसंबर को वोटिंग कराई जाएगी। जबकि, इन सभी राज्यों के नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे।

उम्मीदवार खर्च राशि तय
चुनाव आयोग ने चार राज्यों की अधिकतम खर्च की सीमा राशि तय कर दी है। इसके मुताबिक, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में उम्मीदवार 28 लाख तक खर्च कर पाएंगे। जबकि, मिजोरम में उम्मीदवार के खर्च की सीमा 20 लाख रुपये तक की गई है।

मप्र में शिवराज तीन बार से हैं मुख्यमंत्री
मप्र में लगातार 15 वर्षों से भाजपा की सरकार है। यहां देखा जाए तो शिवराज सिंह चौहान का कार्यकाल ही सबसे लंबा रहा है। वर्तमान में शिवराज का कार्यकाल जनवरी 2019 में खत्म हो रहा है। वे वर्ष 2013 में हुए चुनाव से पहले 4 अक्टूबर 2013 को चुनाव की घोषणा हुई थी। इसके बाद 25 नवंबर को 2013 को वोटिंग कराई गई थी। जहां भाजपा ने इस बार केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को मध्य प्रदेश का चुनाव प्रभारी बनाया है। वहीं कांग्रेस ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को चुनाव प्रचार समिति का प्रमुख बनाया है।

जाने 2013 के चुनाव परिणाम
मध्यप्रदेश विधानसभा में कुल 230 सीटों पर हुए चुनाव में भारतीयजनता पार्टी ने कुल 165 सीटें जीतकर अपनी सरकार बनाई थी। वहीं मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस को 58 सीटों पर संतोष करना पड़ा था। एक अन्य पार्टी बसपा के चार प्रत्याशियों ने जीत दर्ज की थी। लेकिन सपा और भारतीय जन शक्ति पार्टी अपना खाता भी नहीं खोल सकी थी। इस चुनाव में तीन निर्दलीय प्रत्याशी भी चुनाव जीत कर विधानसभा पहुंचे थे।

जाने 2008 के चुनाव परिणाम
मध्यप्रदेश विधानसभा की कुल 230 सीट पर हुए चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने 143 सीट जीती थी। यहां मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस को 71 सीट मिली थी। बसपा के 7 प्रत्याशी चुनाव जीत कर विधानसभा पहुंचे। सपा का एक प्रत्याशी चुनाव जीत सका था। भारतीय जन शक्ति पाटी के पांच प्रत्याशी चुनाव जीते थे। तीन निर्दलीय भी चुनाव जीते थे।

ताजा टिप्पणी

टिप्पणी करे

Top