ब्रेकिंग न्यूज
logo
add image
Blog single photo

प्रदेश का कोई श्रमिक अब मजबूर नहीं रहेगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान

खरगोन जिले में एक लाख से अधिक गरीब परिवारों को जमीन के पट्टे देने की घोषणा 
सेल्फ डिक्लेरेशन मोड पर अमल होगा 
भीकनगाँव में असंगठित श्रमिक सम्मेलन में मुख्यमंत्री 
भोपाल : मंगलवार, अप्रैल 18, 2018,  मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में अब कोई भी श्रमिक मजबूर नहीं रहेगा। अब फसल काटने वाले, गिट्टी तोड़ने वाले, हम्माली करने वाले, ढ़ाई एकड़ से कम जमीन वाले किसान सहित सभी असंगठित श्रमिकों को शासन की योजनाओं का भरपूर लाभ दिया जायेगा। हर गरीब को जमीन मिलेगी, वन-भूमि पर पुराने कब्जाधारियों को वनाधिकार पट्टे दिये जायेंगे। हर पट्टाधारी को मकान बनाने के लिये प्रधानमंत्री आवास और मुख्यमंत्री अंत्योदय योजना में वित्तीय सहायता दी जायेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज खरगोन जिले के भीकनगाँव तहसील मुख्यालय पर असंगठित श्रमिक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।सेल्फ डिक्लेरेशन मोड पर अमल होगामुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गरीबों के हित में प्रदेश में अब स्वघोषित व प्रमाणित (सेल्फ डिक्लेरेशन) मोड पर अमल किया जायेगा। श्री चौहान ने प्रदेश के सभी कलेक्टर्स और जिला पंचायत सीईओ को संबोधित करते हुए घोषणा की कि अगर मजूदर, गरीब स्वयं लिखकर देता है कि वह आयकर श्रेणी में नहीं है और योजनाओं की पात्रता रखता है तो उसे भी असंगठित मजदूर कल्याण योजना में शामिल किया जाएगा।70 हजार श्रमिकों को दिये जमीन के पट्टेमुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर खरगोन जिले में एक लाख से अधिक श्रमिकों को जमीन के पट्टे देने की घोषणा की। उन्होंने मौके पर ही 70 हजार श्रमिकों को जमीन के पट्टे वितरित भी किये। मुख्यमंत्री ने कहा कि अगले चार साल में सभी आवासहीन श्रमिकों को पक्के घर उपलब्ध करवाये जायेंगे। यह कार्य अगले चार वर्षों में पूर्ण किया जायेगा।श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश की जनता को सड़क और बिजली जैसी परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा। राज्य सरकार गरीबों को मकान के लिये जमीन और प्राथमिकता से बिजली उपलब्ध कराने पर ध्यान दे रही है। उन्होंने कहा कि अब एक अप्रैल से पंजीकृत श्रमिकों को सिर्फ 200 प्रतिमाह फ्लेट रेट बिजली बिल का भुगतान करना होगा।श्रमिक हितैषी घोषणाएँमुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर श्रमिकों के लिये महत्वपूर्ण घोषणाएँ की। उन्होंने कहा कि अब श्रमिक परिवार में बेटा/बेटी की उम्र 6 माह और 9 माह होने पर उनकी माँ के खाते में 4 हजार रूपये की राशि ट्रांसफर की जायेगी। बेटी/बेटी के जन्म पर 12 हजार रूपये अलग से दिये जायेंगे। श्रमिकों के बच्चों की पहली कक्षा से उच्च शिक्षा तक की पूरी फीस राज्य सरकार भरेगी। श्रमिक बहनों को सम्मानजनक व्यवसाय के लिये प्रशिक्षण दिया जायेगा। श्री चौहान ने श्रमिकों को उनके कल्याण से संबंधित विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि असंगठित श्रमिक कल्याण योजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिये हर गाँव में 5-5 लोगों की समिति भी गठित की जायेगी।मुख्यमंत्री ने ग्राम बड़वाह निवासी दिवंगत दीपक के उत्तराधिकारी को दो लाख की अनुग्रह राशि प्रदान की। भीकनगाँव की कलाबाई और ख्याली बाई को प्रधानमंत्री उज्जवला योजना में नि:शुल्क घरेलू गैस कनेक्शन प्रदान किये। चार हितग्राहियों को ई-रिक्शा और ई-रोडर क्रय करने के लिये वित्तीय सहायता प्रदान की। साथ ही हितग्राहियों को भू-अधिकार पत्र वितरित किये। इस अवसर पर स्कूल शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह, पशुपालन मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य, श्रम राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री बालकृष्ण पाटीदार, सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान, विधायक श्री राजकुमार मेव, श्री हितेन्द्र सिंह सोलंकी सहित अन्य जन-प्र‍तिनिधि उपस्थित थे।

ताजा टिप्पणी

टिप्पणी करे

Top